पंजीकृत श्रमिकों के खातों में भेजी जा रही है सहायता धनराशि: हरीलाल भार्गव
| - RN. Network - Mar 31 2020 2:54PM

हरीलाल भार्गव, श्रम प्रवर्तन अधिकारी

मालिकों को ईंट भट्ठा संचालन की छूट, श्रमिकों को राहत

अम्बेडकरनगर। लाकडाउन की स्थिति में सभी गरीब व मजदूरों के सामने रोजी-रोटी की समस्या उत्पन्न हो गई है। श्रम विभाग में जिन श्रमिकों का पंजीकरण हुआ है उन्हें अब तक एक हजार रूपए प्रति श्रमिक के हिसाब से उनके खातों में भेजा जा चुका है। शेष अन्य पंजीकृत श्रमिकों खातों में जल्द ही सहायत धनराशि भेजी जायेगी। उक्त जानकारी श्रम प्रवर्तन अधिकारी हरीलाल भार्गव ने दी है। श्री भार्गव के अनुसार जिन श्रमिकों का पंजीयन कतिपय कारणों से नहीं हो पाया है वह लोग विभाग के व्हाट्सएप्प नम्बर पर अपना विवरण भेजकर तत्काल पंजीकरण करा लें, जिससे उनके खातों में भी सहायता राशि भेजी जा सके।  

श्रम प्रवर्तन अधिकारी द्वारा बताया गया कि अद्यतन पंजीकृत निर्माण श्रमिकों को उ0प्र0 भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड द्वारा संचालित आपदा राहत सहायता योजनान्तर्गत श्रम विभाग, अम्बेडकरनगर से 29 मार्च को 55 तथा 30 मार्च 2020 को 34 अद्यतन पंजीकृत निर्माण श्रमिकों के खाते में एक-एक हजार रूपए की धनराशि उपश्रमायुक्त कार्यालय, अयोध्या द्वारा अन्तरित करायी गयी है। 

भार्गव के अनुसार अब तक जिले के 4025 श्रमिकों के खाते में रू. 4025000 की धनराशि अन्तरित की जा चुकी है। शेष अद्यतन पंजीकृत निर्माण श्रमिकों से अपील की गई है कि वह अतिशीघ्र अपना बैंक डिटेल आई0एफ0एस0सी0 सहित, बैंक कापी की छायाप्रति, आधार कार्ड की छायाप्रति तथा पंजीयन प्रमाण-पत्र की छायाप्रति वाट्सअप नं0-9044880061 पर प्रेषित करें, ताकि उनके खाते में रू. 1000 की धनराशि भेजवाई जा सके। 

हरीलाल भार्गव ने बताया कि जिलाधिकारी द्वारा सभी ईंट भट्ठा मालिकों को ईंट भट्ठा संचालन की छूट प्रदान की गयी है ताकि वहां के मजदूरों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराते हुए काम पर लगाया जा सके तथा वह अपने निवास स्थान न जाकर कार्य स्थल पर बने रहें। इस बावत सभी ईंट भट्ठा मालिकों को सूचित किया गया है कि वह अपने श्रमिकों के लिए रहने खाने की समुचित व्यवस्था करायें तथा उन्हें कार्य स्थल पर बने रहने के लिए प्रेरित करें। 

साथ ही जनपद के ऐसे समस्त दुकान एवं वाणिज्यिक प्रतिष्ठानो को दोबारा सूचित किया गया है कि शासन के आदेश पर जिन दुकानो एवं वाणिज्यिक प्रतिष्ठानो व कारखानो को अस्थायी रूप से बंद करने का निर्देश दिया गया है, बन्दी के कारण उन जगहों पर नियोजित श्रमिकों/कर्मकारों को आर्थिक रूप से कोई दिक्कत न हो, इसके लिए सभी संस्थान के मालिकों को निर्देश दिया गया है कि बन्दी के समय श्रमिकों को लाकडाउन की अवधि में वेतन का भुगतान करना सुनिश्चित करें। 



Browse By Tags



Other News