अकबरपुर कस्बे में चोरियों की बाढ़, साइकिल चोर हुए सक्रिय
| - RN. Network - May 6 2020 3:07PM

कस्बा चौकी प्रभारी का अनापेक्षित कार्य व्यवहार चर्चा में

मीडिया तक की फोन कॉल नहीं करते हैं रिसीव

आरोप है कि अकबरपुर पुलिस आपसी झगड़े-झंझट निपटाने में नगरजनों से कर रही है उगाही। चेकिंग के नाम पर मुख्य सड़क मार्ग पर पटकती है डण्डा। रिहायशी कॉलोनियों, मोहल्लों में विवादित जमीन-जायदाद, मकान निर्माण आदि मामलों को कथित रूप से सलटाने हेतु बिचौलियों के माध्यम से बढ़ा रही है अपने बटुए का वजन। 

अम्बेडकरनगर। आजकल थाना कोतवाली अकबरपुर क्षेत्र में चोरियों की बाढ़ आ गई है। लोगों के घरों से बाल्टी, लोटा, थाली और साइकिल आदि की चोरी की घटनाओं में इजाफा हो गया है। घरों में लाकडाउन की स्थिति में कैद से होकर रहने वाले नगरजनों की इस समस्या को पुलिस द्वारा संज्ञान में नहीं लिया जा रहा है। सामान्य जनों के फोनकॉल्स कोतवाली अकबरपुर के अफसर और कस्बा चौकी इंचार्ज अकबरपुर द्वारा रिसीव ही नहीं की जाती हैं। अकबरपुर नगर पालिका क्षेत्र के वार्ड नं0 11 उसरहवा कॉलोनी से अब तक आधे दर्जन घरों से साइकिल की चोरी हो चुकी है। उसरहवा मोहल्ले के कई लोगों ने जब इसकी जानकारी कस्बा चौकी पुलिस अकबरपुर को देने का प्रयास किया तो उनकी कॉल्स रिसीव ही नहीं की गई।

बीते दिवस 05 मई 2020 को साइकिल चोरी की एक घटना के बारे में रेनबोन्यूज ने अकबरपुर कस्बा चौकी प्रभारी को दूरभाषीय सम्पर्क कर बताना चाहा तो असफलता ही हाथ लगी। आधा दर्जन बार रिंग किये जाने के बावजूद कस्बा चौकी प्रभारी ने फोन रिसीव ही नहीं किया।बता दें कि गौसपुर मोहल्ला निवासी करिया दलित दिन में किसी कार्य वश उसरहवा कॉलोनी में आया था और अपनी नई साइकिल में सुरक्षा के दृष्टिगत तालाबन्द कर मिलने वाले के घर गया। इसी बीच सिद्धहस्त साइकिल चोर ने दिन के उजाले में करिश्माई ढंग से तालाबन्द साइकिल पलक झपकते ही पार कर दिया। 

दलित करिया एक श्रमिक है और लाकडाउन में निर्माण कार्य बन्द होने की वजह से वह भुखमरी की कगार पर पहुँच गया है। इसीलिए लाकडाउन के तीसरे चरण के प्रथम दिन काम की तलाश में वह ठेकेदार के कहने पर अकबरपुर नगर के उसरहवा मोहल्ले में गया हुआ था। उसे नहीं मालूम था कि काम तो बाद में पहले उसकी नई साइकिल जिसकी कीमत 4000 बताई गई है गायब कर दी जायेगी। खैर! चोर तो चोर उनका काम ही चोरी करना है।

अकबरपुर के वार्ड नं0 11 उसरहवा कॉलोनी स्थित रेनबोन्यूज प्रकाशन से लेकर डॉ. रोली द्विवेदी को जाने वाली गली में चोरी की घटनाओं में वृद्धि हुई है। इस क्षेत्र के रहने वालों के अनुसार अब तक उनके घरों से छोटे-बड़े कीमती धातुई पात्र, गृह उपयोगी किचेन वेयर और नई-पुरानी साइकिलें गायब हो चुकी हैं। अब तो पुलिस का मित्र होना भी युवा उपनिरीक्षक चन्द्रभान यादव (कस्बा चौकी प्रभारी, अकबरपुर) के उपेक्षापूर्ण कार्य व्यवहार से लोगों में प्रश्नवाचक चिन्ह लगा रहा है। जी हाँ! यह वही उपनिरीक्षक हैं जिनके कार्य व्यवहार की व्यापक रूप से चर्चा नगरजनों द्वारा की जाती रहती है। उसरहवा कॉलोनी में इस तरह की घटनाएँ जिन्हें पुलिस अपराध नहीं मानती यानि चोरी की वारदातें बढ़ने से वार्ड वासियों में असुरक्षा की भावना बलवती होने लगी है।

ऐसी स्थिति में कोतवाली अकबरपुर और कस्बा चौकी अकबरपुर के हाकिमों द्वारा आम जन की अनदेखी किया जाना सोने पर सुहागा जैसा काम कर रहा है। तात्पर्य यह कि चोरी की घटनाओं से चोर मालामाल, पीड़ित का बुरा हाल और पुलिस का पुराना हाल वही अंग्रेजों के जमाने की पुलिस जैसी। धनाढ्यों और नेताओं, सफेदपोशों, दलालों, मुखबिरों से प्रगाढ़ता रखने वाले अकबरपुर कस्बा चौकी प्रभारी चन्द्रभान यादव का कार्य व्यवहार नगरजनों में चर्चा का विषय बना हुआ है। 



Browse By Tags



Other News