अम्बेडकरनगर: रेड जोन में जाने के खतरे की संभावना से प्रशासन हुआ सतर्क
| - RN. Network - May 12 2020 6:22PM

अम्बेडकरनगर। कोविड-19 का कहर और लाकडाउन की स्थिति में उत्तर प्रदेश का अम्बेडकरनगर जिला 47 दिनों तक कोरोना संक्रमण से बचा हुआ ग्रीन जोन में रहा। परन्तु लाकडाउन के 47वें दिन जिले के पूर्वांचल स्थित एक ही गाँव से 2 नवयुवकों के कोरोना धनात्मक पाये जाने से इसका ग्रीन जोन का तमगा भी छिन गया। फलतः अम्बेडकरनगर ग्रीन जोन से ऑरेन्ज जोन में आ गया। 

यहाँ बता दें कि 11 मई 2020 को जिले के आलापुर तहसील क्षेत्र अन्तर्गत धनुकारा गाँव में दिल्ली से कमा कर अपने घर वापस लौटे 2 नवयुवक जिनका नाम- विनोद व सुभाष कुमार बताया गया है के जाँचोपरान्त कोरोना धनात्मक पाये जाने पर पूरा गाँव एक किलोमीटर की परिधि में सील कर दिया गया। इससे सम्बन्धित आदेश जिलाधिकारी राकेश कुमार मिश्र ने कल 11 मई को देते हुए लाकडाउन के नियमों का कड़ाई से अनुपालन करने का निर्देश दिया। जिलाधिकारी राकेश कुमार मिश्र, पुलिस अधीक्षक आलोक प्रियदर्शी, सी.एम.ओ. डॉ. अशोक कुमार जैसे हाकिम धनुकारा गाँव में लगातार नजर रखे हुए हैं। 

हालांकि धनुकारा गाँव डी.एम. के आदेश पर सील कर दिया गया है जिसके फलस्वरूप इस गाँव में न तो कोई प्रवेश कर सकता है और न ही कोई गाँव से बाहर जा सकता है। सतर्कता की दृष्टि से सील किए गए धनुकारा गाँव में पर्याप्त पुलिस बल लगाकर चौकसी बढ़ा दी गई है। प्रशासन को इस बात की आशंका है कि कहीं इस गाँव के दोनों कोरोना संक्रमित नवयुवकों की वजह से गाँव के अन्य लोगों और बाहरी लोगों में इसका संक्रमण न फैल जाये। इन्हीं सब आशंकाओं के दृष्टिगत जिला प्रशासन ने धनुकारा गाँव के सभी निवासियों और विशेष तौर पर विनोद व सुभाष कुमार के परिजनों पर कड़ी नजर रखा हुआ है। दोनों संक्रमित नवयुवकों को आइसोलेशन वार्ड तथा उनके परिजनों को क्वारंटाइन पर रखा गया है। अब जिला प्रशासन को सिर्फ इस बात की फिक्र है कि कहीं अम्बेडकरनगर ग्रीन जोन से रेड जोन में न चला जाये। 

 

जनपद के पढ़े-लिखे, जागरूक और समाजसेवियों का कहना है कि प्रशासन की जरा सी ढील इस जिले को और भी भयंकर स्थिति में ला सकती है। युवा समाजसेवी संकल्प मानव सेवा संस्था के संस्थापक सूरज कुमार उर्फ बन्टी गुप्ता का कहना है कि जिले के सीमावर्ती आजमगढ़, बस्ती, सन्तकबीरनगर, अयोध्या, सुल्तानपुर और जौनपुर सभी में कोरोना का संक्रमण फैला हुआ था, बावजूद इसके यह जिला प्रशासन की सख्ती और सूझ-बूझ के चलते कोरोना संक्रमण से बचा हुआ रहा। इसीलिए इसे ग्रीन जोन में रखा गया था। परन्तु बीते कुछ दिनों से जरा सी सहूलियत मिलते ही लाकडाउन नियमों का उल्लंघन होने लगा परिणाम यह रहा कि पूर्वांचल के धनुकारा गाँव में दो नवयुवक दिल्ली से कमाकर अपने घर लौटे, जो कोरोना पॉजिटिव पाये गये। 



Browse By Tags



Other News