जल संकट एक और खतरे की घंटी -
| -RN. Feature Desk - May 30 2020 1:07PM

-डॉo सत्यवान सौरभ

नीति आयोग  की रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत,  इतिहास में अपने ‘सबसे खराब’ जल संकट का सामना कर रहा है। गर्मियों  में नल सूख गए हैं , जिससे अभूतपूर्व जल संकट पैदा हो गया है। एशियाई विकास बैंक के एक पूर्वानुमान के अनुसार, भारत में 2030 तक 50% पानी की कमी होगी। हाल ही के अध्ययनों में कम पानी की उपलब्धता के मामले में मुंबई और 27 सबसे कमजोर एशियाई शहरों में शीर्ष पर मुंबई और दिल्ली शामिल हैं। यूएन-वॉटर का कहना है कि "जलवायु परिवर्तन के पानी के प्रभावों को अपनाने से स्वास्थ्य की रक्षा होगी और जीवन की रक्षा होगी"। साथ ही, पानी का अधिक कुशलता से उपयोग करने से ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन कम होगा। हालांकि, कोविड-19 महामारी के जवाब में, हाथ धोने और स्वच्छता पर अतिरिक्त ध्यान केंद्रित किया गया है।

भारत में पानी का संकट कल्पना से ज्यादा भीषण है। पानी की वार्षिक प्रति व्यक्ति उपलब्धता 1951 में लगभग 5,177 क्यूबिक मीटर से घटकर 2019 में लगभग 1,720 क्यूबिक मीटर रह गई है। दिल्ली, बेंगलुरु, चेन्नई और हैदराबाद सहित इक्कीस शहर 2020 तक भूजल से बाहर हो जाएंगे, जिससे 100 मिलियन लोग प्रभावित होंगे।मेगा शहरों के अलावा, कई तेजी से बढ़ते छोटे और मध्यम शहर जैसे कि जमशेदपुर, कानपुर, धनबाद, मेरठ, फरीदाबाद, विशाखापत्तनम, मदुरै और हैदराबाद भी इस सूची में शामिल हैं। इनमें से ज्यादातर शहरों में मांग-आपूर्ति का अंतर 30 फीसदी से लेकर 70 फीसदी तक है। सुरक्षित पानी की अपर्याप्त पहुँच के कारण हर साल लगभग दो लाख लोगों की मृत्यु हो जाती है, लगभग तीन-चौथाई घरों में पीने का पानी नहीं पहुंचता है और लगभग 70 प्रतिशत पानी दूषित होता है। भूजल निष्कर्षण की दर इतनी गंभीर है कि नासा के निष्कर्ष बताते हैं कि भारत की जल तालिका प्रति वर्ष लगभग 0.3 मीटर की दर से खतरनाक रूप से घट रही है।

कमी की इस दर पर, भारत में 2050 में उपलब्ध प्रति व्यक्ति वर्तमान पानी का केवल 22 प्रतिशत होगा, संभवतः देश को पानी आयात करने के लिए मजबूर करना। 140 मिलियन हेक्टेयर में अनुमानित भारत की अंतिम सिंचाई क्षमता का लगभग 81 प्रतिशत पहले ही निर्मित हो चुका है और इस प्रकार बड़े पैमाने पर सिंचाई के बुनियादी ढाँचे के विस्तार की गुंजाइश सीमित है। जलवायु विशेषज्ञों ने भविष्यवाणी की है कि भविष्य में कम बारिश के दिन होंगे लेकिन उन दिनों में अधिक बारिश होगी।

भू-जल पर लगातार बढ़ती निर्भरता और इसका निरंतर अत्यधिक दोहन भू-जल स्तर को कम कर रहा है और पेयजल आपूर्ति की गुणवत्ता पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है, जो एक जटिल चुनौती है। जल स्रोतों के सूखने, भू-जल तालिका में तेजी से कमी, सूखे की पुनरावृत्ति और विभिन्न राज्यों में बिगड़ते जल प्रबंधन विभिन्न प्रकार की चुनौतियाँ पेश कर रहे हैं बंद पड़े बोर पंपों, जलापूर्ति पाइपलाइनों की मरम्मत समय पर नहीं हो पा रही जिससे क्षेत्र विशेष में पयेजल संकट विद्यमान हो गया है।

औद्योगीकरण और नगरीकरण के दबाव के कारण पानी के स्रोत नष्ट होते चले गए। इस चिंतनीय पक्ष को लगातार विभिन्न सरकारों द्वारा नजरअंदाज किया गया।  ग्रामीण भारत में न केवल पेयजल अपर्याप्त है बल्कि देशभर में इसका असंतुलन बहुत व्यापक है। दुनिया के 30 देशों में जल संकट एक बड़ी समस्या बन चुकी है और अगले एक दशक में वैश्विक आबादी के करीब दो-तिहाई हिस्से को जल की अत्यधिक कमी का सामना करना पड़ेगा। वास्तविक अर्थों में भारत में जल संकट एक प्रमुख चुनौती बन चुका है।


जनसंख्या विस्फोट का एक संयोजन, शहर की अनियोजित वृद्धि और कुछ पारंपरिक जलग्रहण क्षेत्रों में इसका विस्तार और बड़े- पैमाने पर वनों की कटाई ने पानी के प्राकृतिक प्रवाह में कमी ला दी है। जलवायु परिवर्तन, सर्दियों के महीनों के दौरान बहुत कम वर्षा के परिणामस्वरूप पानी का प्राकृतिक प्रवाह और पुनर्भरण तेजी से गिर गया है अनियोजित विकास और जल संसाधनों के दोहन की जांच करने के लिए राज्य सरकारों ने पानी की मात्रा और गुणवत्ता के प्रबंधन के लिए केंद्रीय या राज्य स्तर पर कोई प्रयास नहीं किया गया है

वनस्पति पैटर्न बदल गया है, पेड़ों का आवरण सिकुड़ रहा है और पानी की धाराओं में मलबे का अवैज्ञानिक डंपिंग व्याप्त है। साथ ही नलकूपों की बढ़ती संख्या के कारण भूजल का क्षय हुआ। खेती के पैटर्न में बदलाव से सिंचाई के लिए अधिक पानी की खपत होती है और उर्वरकों के उपयोग के कारण मिट्टी की रूपरेखा भी बदल जाती है, उत्तर प्रदेश, हरियाणा और झारखंड जैसे राज्य सबसे निचले स्थान पर हैं जोअधिकांश कृषि उपज के साथ भारत की लगभग आधी आबादी का घर है। भारत की पारंपरिक जल संचयन संरचनाओं को बनाए रखने में भी रुचि की कमी जल संकट का मुख्या कारण है।


प्राचीन भारत में अच्छी तरह से प्रबंधित कुएँ और नहर प्रणालियाँ,करेज, बावली, वाव आदि थीं। आज हमें स्थानीय स्तर पर स्वदेशी जल संचयन प्रणालियों को पुनर्जीवित और संरक्षित करने की आवश्यकता है। शहरी और ग्रामीण दोनों क्षेत्रों में सभी प्रकार के भवनों के लिए वर्षा जल संचयन के गड्ढे खोदना अनिवार्य किया जाना चाहिए।गैर-पीने योग्य पानी को ताजे पानी में परिवर्तित करने में सक्षम प्रौद्योगिकियों, आसन्न जल संकट के संभावित समाधान की पेशकश करने की आवश्यकता है।

विश्व बैंक का वाटर स्कोर्स सिटीज़  एक एकीकृत दृष्टिकोण को बढ़ावा देना चाहता है, जिसका उद्देश्य जलवायु परिवर्तन लचीलापन बनाने के आधार के रूप में जल-संसाधन वाले शहरों में जल संसाधनों और सेवा वितरण का प्रबंधन करना है। मजबूत डेटा संग्रह के माध्यम से भूजल निष्कर्षण पैटर्न को बेहतर ढंग से समझने की आवश्यकता है।

जन जागरूकता अभियान, जल संरक्षण के लिए कर प्रोत्साहन और प्रौद्योगिकी इंटरफेस का उपयोग भी पानी की समस्या को दूर करने में एक लंबा रास्ता तय कर सकता है।  जल परियोजनाओं के लिए सार्वजनिक-निजी भागीदारी मॉडल को अपनाने जैसा एक सहयोगी दृष्टिकोण मदद कर सकता है। जल निकायों के प्रदूषण और भूजल के प्रदूषण को रोकने के लिए निरंतर उपाय किए जाने चाहिए। घरेलू और औद्योगिक अपशिष्ट जल का उचित उपचार सुनिश्चित करना भी आवश्यक है।

भारत में मुख्य रूप से पानी का महत्व नहीं है। "लोगों को लगता है कि यह मुफ़्त है"। भारत की पानी की समस्याओं को मौजूदा ज्ञान, तकनीक और उपलब्ध धन से हल किया जा सकता है। भारत की जल स्थापना को स्वीकार करना होगा कि अब तक की गई रणनीति ने काम नहीं किया है। आये दिन जलवायु बदल रही है और बदलती रहेगी, जो मुख्य रूप से जल के माध्यम से समाज को प्रभावित करती है। जलवायु परिवर्तन बुनियादी मानव आवश्यकताओं के लिए पानी की उपलब्धता, गुणवत्ता और मात्रा को प्रभावित करेगा, जिससे संभावित रूप से लोगों के लिए स्वच्छता व पानी के लिए मानव अधिकारों के प्रभावी उपयोग को खतरा होगा।

-डॉo सत्यवान सौरभ, रिसर्च स्कॉलर इन पोलिटिकल साइंस, दिल्ली यूनिवर्सिटी, कवि,स्वतंत्र पत्रकार एवं स्तंभकार, हिसार हरियाणा



Browse By Tags



Other News