आखिर शहजादपुर पुलिस चौकी के इंचार्ज गजेन्द्र विक्रम सिंह को गुस्सा क्यों आया........?
| - RN. Network - May 31 2020 5:55PM

एक लाख की रिश्वत के आरोप से बौखलाए शहजादपुर चौकी प्रभारी दारोगा गजेन्द्र विक्रम सिंह

मामला अम्बेडकर नगर के शहजादपुर अब्दुल्लापुर के गहना कोठी निवासी रवि कुमार सोनी और उनकी पत्नी का

अम्बेडकरनगर। अकबरपुर कोतवाली के शहजादपुर अब्दुल्लापुर निवासी रवि कुमार सोनी प्रकरण में एक लाख की  रिश्वत लेने का आरोप लगते ही, शहजादपुर पुलिस चौकी के इंचार्ज गजेन्द्र विक्रम सिंह सब इन्स्पेक्टर बौखलाए। सीएम डीजीपी एसपी को प्रेषित पत्र में रवि सोनी ने लगाया है कई गम्भीर आरोप। उन आरोपों की वजह से उप निरीक्षक गजेन्द्र विक्रम सिंह बौखलाए से हो गए दिखने लगे हैं। गहना कोठी के रवि सोनी के आरोपों के बाबत कुछ भी बताने से के रहे हैं परहेज़। अधिकारी गण ध्यान दें।मीडिया से अपनी बौखलाहट में कहते हैं, जो चाहो छापो , मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता। मै सभी आरोपों का जवाब दे लूंगा। फोन भी नहीं उठाते हैं।

अम्बेडकरनगर। इस समय सोशल मीडिया की सक्रियता और सकारात्मकता के चलते सरकारी विभागों के भ्रष्ट, कामचोर और मनमाना करने वाले मुलाज़िम सकते में आ गये हैं। इसी क्रम में जिले के पुलिस महकमे में कार्यरत कई वर्दी अधिकारी व कर्मचारी सोशल मीडिया के कहर को झेल न पाने की वजह से अपना आपा खोने लगे हैं। बौखलाये वर्दीधारियों के प्रति हमदर्दी जताने वाले लोग भी इनके कोप का भाजन होने लगे हैं। फोन की घण्टी बजी नहीं, फोनकर्ता का नाम सुना नहीं कि अनाप-शनाप बकना शुरू। 

इस समय जिला मुख्यालयी शहर अकबरपुर के जुड़वा उपनगर शहजादपुर-अब्दुल्लापुर की गहना कोठी चर्चा का विषय बनी हुई है। इस कोठी में रहने वाले परिवार और उसमें उत्पन्न पारिवारिक विवाद को लेकर आये दिन कोई न कोई खबर सोशल मीडिया में वायरल होती रहती है। गहना कोठी अब्दुल्लापुर (शहजादपुर), थाना कोतवाली अकबरपुर, अम्बेडकरनगर क्षेत्रान्तर्गत स्थित है। इसमें रहने वाले कृष्ण चन्द सोनी, उनकी पत्नी, दो पुत्रों, पुत्र वधुओं के बीच विवाद बढ़ा हुआ है। यह विवाद आज का नहीं, वर्षो पहले का है। अपनी पेंचीदगी के चलते यह सलटने के बजाय और उलझता जा रहा है। इस मामले का हर किरदार अपने रोल से विचित्र ही प्रतीत होता है। ऊपर से अकबरपुर पुलिस की भूमिका भी आग में घी का काम कर रही है। 

एक तरो-ताजा प्रकरण गहना कोठी से सम्बन्धित सामने आया है। जिसमें मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश, पुलिस महानिदेशक उत्तर प्रदेश तथा रेंज व जिला स्तरीय पुलिस अधिकारियों को पत्र भेजकर रवि कुमार सोनी पुत्र कृष्ण चन्द्र सोनी निवासी अब्दुल्लापुर, शहजादपुर, अकबरपुर, जनपद अम्बेडकरनगर ने अपनी कथा-व्यथा बयां की है और विस्तार से लिखा है कि-

मैं दिनांक 27 मई 2020 को लगभग 5 बजे शाम को मालीपुर रोड, अब्दुल्लापुर, शहजादपुर स्थित अपने घर में घुस रहा था कि अचानक मेरे भाई आनन्द सोनी पुत्र कृष्ण चन्द्र सोनी ने मेरे ऊपर हमला कर दिया। थोड़ी देर में पुलिस आ गई और मुझे पकड़ लिया, फिर एस.आई. गजेन्द्र विक्रम सिंह चौकी प्रभारी शहजादपुर ने मेरे सामने 1 लाख रूपए घूस विपक्षी आनन्द सोनी से लिया। मुझे मारते हुए चौकी ले गई। रात भर मुझे कोतवाली लॉकअप में रखा गया। और मेरा मोबाइल भी ले लिया गया था, जिसकी वजह से मैं किसी से सम्पर्क नहीं कर पाया। और फिर सुबह मेरे ऊपर धारा- 151 लगाकर चालान कर दिया गया। पुलिस अधिकारी द्वारा माँ की गाली देते हुए कहा गया कि इस साले को रातभर थाने में बन्द रखो पैसा देगा तो छोड़ना, नहीं तो फर्जी मुकदमा 307, 302 में फंसाकर जेल भेजा जायेगा।  

इस तरह का आरोप लगाते हुए रवि कुमार सोनी द्वारा 29 मई 2020 को प्रेषित पत्र में लिखा गया है कि चौकी प्रभारी शहजादपुर गजेन्द्र विक्रम सिंह एवं आनन्द कुमार सोनी के विरूद्ध मुकदमा लिखकर कानूनी कार्रवाई किये जाने का आदेश दिया जाये। 

इस पत्र के साथ-साथ रवि कुमार सोनी की पत्नी का एक वीडियो भी वायरल हो रहा है, जिसमें उसके द्वारा कहा गया है कि उसके ससुर कृष्णचन्द्र सोनी द्वारा गहना कोठी (उसके घर) में उसे प्रवेश करने से रोका जा रहा है। इस वायरल वीडियो में रवि सोनी की पत्नी द्वारा पुलिस, सम्भ्रान्त जनों और मीडिया परसन्स से इल्तिजा की गई है कि उसके और उसके पति रवि कुमार सोनी तथा नन्हें बच्चे के साथ न्याय कराया जाये, ताकि वह अपने पति और बच्चे के साथ गहना कोठी अपने घर में रह सके। साथ ही उसे स्थानीय पुलिस द्वारा की जा रही ज्यादती से भी बचाया जाये, ऐसा वायरल वीडियो में रवि कुमार सोनी की पत्नी द्वारा कहा जा रहा है। 

यह पूरा प्रकरण सोशल मीडिया में प्रमुखता से वायरल हो रहा है। इस बावत जब रेनबोन्यूज ने शहजादपुर चौकी प्रभारी गजेन्द्र विक्रम सिंह से बात कर उनका पक्ष जानना चाहा तो पहले दिन उन्होंने कहा कि मैं अभी बाहर हूँ। 30 मई 2020 को सायं जब उनसे सम्पर्क नहीं हो पाया तो रेनबोन्यूज ने चौकी शहजादपुर के दीवान जान मोहम्मद के मोबाइल नम्बर- 9919146005 पर कॉल की गई तो दीवान जी ने बताया कि मालीपुर रोड पर हैं। क्या वहाँ चौकी प्रभारी भी हैं यदि हों तो बात कराई जाये। दीवान जी ने कहा कि हाँ हैं बात कराता हूँ। इतना कहकर जान मोहम्मद ने अपना फोन गजेन्द्र विक्रम सिंह को पकड़ा दिया। इधर से जब कहा गया कि हैलो! रेनबोन्यूज से.........बोल हैं, इतना सुनते ही गजेन्द्र विक्रम सिंह भड़क उठे और अपना आपा खोकर अनाप-शनाप बोलने लगे।

उन्होंने कहा कि कितनी मेहनत कर रहा हूँ, सुबह से बिना खाये-पिये ड्यूटी कर रहा हूँ। यह सब आप लोगों को नही दिखता। गहना कोठी प्रकरण का जिक्र करने पर उन्होंने कहा कि इस तरह के तमाम मामले आते रहते हैं कितना याद रखा जाये। जो चाहो छापो, मुझे फर्क नहीं पड़ता। 1 लाख रूपए रिश्वत लिये जाने सम्बन्धी आरोप के बावत उन्होंने कहा कि यह सिर्फ आप ही कह रहे हैं, और किसी ने तो नहीं कहा। हम जो भी करते हैं अपने सीनियर अफसर के आदेशानुसार ही करते हैं। मैं सभी आरोपों का जवाब दे लूंगा। इतना कहकर उन्होंने पुलिसिया अन्दाज में बड़बड़ाते हुए फोन काट दिया। यह रेनबोन्यूज के लिए सर्वथा अप्रत्याशित और अचंभित करने वाला था। उन्होंने आपा क्यों खोया, अपना पक्ष बताने से क्यों गुरेज किया इस पर विचार करना आवश्यक है।  



Browse By Tags



Other News