मिटाना  पड़ता हैं
| -RN. Feature Desk - Aug 3 2020 2:56PM

                                                                                                                -स्मिता जैन

बोर्ड पर लिखी इबारत को,
नई इबारत लिखने के लिए मिटाना पड़ता है।
हाथों में लगी मेहंदी को,
रंग देखने के लिए मिटाना पड़ता है।
सूखे हुए पौधे को,
नया पौधरोपण के लिए हटाना पड़ता है।
समाज में व्याप्त विकृतियों को,
नई ऊर्जा का आगाज करके मिटाना पड़ता है।
नए विचारों को आगे बढ़ाने के लिए,
मन भेद मतभेदों को मिटाना पड़ता है ।
रात के गहन अंधेरे को,
भोर की नई किरणों से मिटाना पड़ता है।
विनाशकारी हो अगर अहंकार,
तो नव निर्माणके लिए उसे मिटाना पड़ता है।
गलतफहमियां से उपजे गर्त में जा रहे रिश्तो को,
पवित्र विचारों के संवादों से मिटाना पड़ता है ।
हो अगर राष्ट्र का विध्वंस,
तो जन आक्रोश के आंदोलनों से मिटाना पड़ता है। 



Browse By Tags



Other News