राजीव गांधी द्वारा कराया गया शिलान्यास सियासी था: साक्षी महाराज
| Agency - Aug 4 2020 5:43PM

अपने विवादित बयानों से चर्चा में रहने वाले उन्नाव सीट से सांसद साक्षी महाराज ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के द्वारा पांच अगस्त को किए जा रहे मंदिर निर्माण के भूमिपूजन में कोई राजनीति नहीं है लेकिन असली सियासत तो उस समय हुई थी जब पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय राजीव गांधी ने राम मंदिर के लिए शिलान्यास कराया था। साक्षी महाराज ने मंगलवार को यहां अपने आश्रम में कहा “मैं साक्षी हूं अयोध्या के पूरे आंदोलन का, बाबरी विधवन्स का, राम सिला पूजन का। जब से मैंने होश संभाला है इस आंदोलन से मैं जुड़ा हूँ और एक एक घटना का मैं साक्षी हूँ। मोदी जी के द्वारा किये जाने वाले राम मंदिर के शिलान्यास में कोई सियासत नही है, सियासत तो राजीव गांधी ने जो राम मंदिर के लिये शिलान्यास कराया था, सियासत उसमें थी।”

उन्होंने कहा कि कांग्रेस की सरकार में स्वर्गीय राजेश पायलट आंतरिक सुरक्षा गृह राज्य मंत्री थे, उन दिनों मंदिर आंदोलन का केंद्र मेरा दिल्ली का आश्रम था, पायलट रात में मेरे पास आये और पूंछा क्या करना है। मैने कहा था कि यदि आपको हिंदुओं का वोट चाहिए तो शिलान्यास कराकर मंदिर निर्माण होने दीजिए। सिर्फ मुसलमानों का वोट चाहिए तो शिलान्यास मत करने दीजिए। शिलान्यास कराया गया, फिर रोक दिया गया। उन्होंने कहा कि ये शिलान्यास सियासी शिलान्यास था। कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह द्वारा मंदिर के शिलान्यास पर अनर्गल बयानबाजी किये जाने पर उन्होंने कहा कि उन्होंने राम भक्तों को जेल में ठूंसवा दिया था। साक्षी महाराज ने कहा कि भाजपा राष्ट्र की राजनीति करती है, राम के लिए राजनीति करती है लेकिन दिग्विजय सिंह एक परिवार की गुलामी करते हैं। एक परिवार के लिए राजनीति करते हैं। हम राम के लिए राजनीति करते हैं तो कोई बुरी बात नही, राम इस देश के आदर्श हैं।

साक्षी महाराज ने इस बात से इंकार किया कि उम्र और कोरोना को ढाल बनाकर राम मंदिर से जुड़े बड़े चर्चित लोगों को नजर अंदाज किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हजारों लोग राम मंदिर के लिए जान दे गए। सांसद ने इसका श्रेय उच्चतम न्यायालय, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह को इसका श्रेय दिया। उन्होंने मंदिर निर्माण में सहयोग के लिये उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, मुस्लिम और हिन्दू भाइयों को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि यह बताने की जरूरत नहीं कि मंदिर निर्माण के लिए किसका योगदान है। सबके योगदान के बारे में जनता को पता है। जिसका जो योगदान है उसे नकारा नही जा सकता।साक्षी महाराज ने मोदी को अत्यधिक महत्व देने पर कहा कि जब समुद्र में पुल बन रहा था, वहाँ बड़े बड़े योद्धा थे नल, नील, अंगद थे पर प्रभु श्री राम ने हाथ गिलहरी ऊपर रखा था और गिलहरी की चर्चा ज्यादा होती है।

प्रभु श्रीराम की कृपा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को ये सौभाग्य प्राप्त हुआ है। वे 22.50 किलोग्राम की चांदी की ईंट से राम मंदिर निर्माण का शिलान्यास अपने हाथों से करेंगे। ये राम की कृपा है। प्रभु की कृपा के बिना पत्ता नही हिल सकता। प्रभु श्रीराम ने ये संयोग बनाया कि श्री मोदी शिलान्यास करें। मोदी जी बधाई के पात्र हैं। उन्होंने कहा कि पांच अगस्त बड़ा दिन है। इसी दिन धारा 370 हटाई गई थी। इसी तारीख को ही सैकड़ों सालों से लंबित अयोध्या में राम मंदिर को शिलान्यास होने जा रहा है। सांसद ने देश वासियों से अपील की है कि मोदी जी के शिलान्यास कार्यक्रम के अवसर पर सभी पटाखे चलाएं, दीपक जलाएं, मिठाईया बांटे, खुशिया मनाए, गाने गाए, भजन गाये जो जैसे खुशी का इजहार कर सकता है करे।



Browse By Tags



Other News