मनोज सिन्हा बने जम्मू-कश्मीर के नये उप-राज्यपाल
| Agency - Aug 6 2020 3:54PM

मनोज सिन्हा मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में रेल राज्य मंत्री रह चुके हैं. मगर पिछले साल वो ग़ाज़ीपुर से अपनी सीट पर चुनाव हार गए थे.मनोज सिन्हा को जीसी मुर्मू की जगह जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल का दायित्व सौंपा गया है. मुर्मू ने अचानक से बुधवार को इस्तीफ़ा दे दिया था. राष्ट्रपति ने उनका इस्तीफ़ा मंज़ूर कर लिया है. 

जीसी मुर्मू ने इस्तीफ़ा ऐसे दिन दिया जब जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले संविधान के अनुच्छेद 370 को निरस्त किए जाने का ठीक एक साल पूरा हो रहा था. हालाँकि, उनके इस्तीफ़े को लेकर आधिकारिक तौर पर कोई बयान या घोषणा नहीं की गई. मगर समाचार एजेंसियों और सरकारी प्रसारण सेवाओं पर ये ख़बर जारी की गई.

समाचार एजेंसी पीटीआई ने सूत्रों के हवाले से लिखा है कि मुर्मू को केंद्र में एक नया प्रभार सौंपा जा सकता है. 60 वर्षीय पूर्व आईएएस अधिकारी गिरीश चंद्र मुर्मू को पिछले वर्ष 29 अक्तूबर को राज्यपाल सत्यपाल मलिक को गोवा भेजे जाने के बाद जम्मू-कश्मीर का उपराज्यपाल बनाया गया था. गुजरात काडर के मुर्मू नरेंद्र मोदी के मुख्यमंत्री रहने के दौरान राज्य के मुख्य सचिव रह चुके हैं.

भारतीय संसद ने पिछले वर्ष 5 अगस्त को जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा ख़त्म करने के साथ उसे केंद्र शासित प्रदेश बना दिया था. साथ ही लद्दाख को भी प्रदेश से अलग करके एक अलग केंद्रशासित प्रदेश का दर्जा दिया गया था.जम्मू-कश्मीर और लद्दाख 31 अक्टूबर से आधिकारिक तौर पर केंद्र शासित प्रदेश बन गए थे. इसके बाद दोनों जगह उपराज्यपालों की नियुक्ति की गई थी. राधा कृष्ण माथुर को लद्दाख का उपराज्यपाल बनाया गया था.



Browse By Tags



Other News