चैलेंज मेरे लिये भी चैलेंज है : मधु शर्मा
| Rainbow News - Jun 23 2017 6:05PM

फासलों की अपनी सिद्दत होती है। कैफियत की अपनी रवायत होती है। शायर ने कहा था फूल भी हो दरमियां तो फासले हुये। किसी शायर की गजल की भांति हैं भोजपुरी फिल्मों की अदाकार मधु शर्मा। मधु शर्मा का जन्म राजस्थान के जयपुर में 13 दिसंबर 1984 को मारवाड़ी फैमिली में हुआ था। उन्हे बचपन से एक्ट्रेस बनने का शौक था। वे भोजपुरी फिल्मों के सुपरस्टार पवन सिंह के साथ फिल्म चैलेंज की नायिका हैं।  लगातार हिट पर हिट फिल्म देने वाली मधु शर्मा इन दिनों चर्चा में हैं अपनी फिल्म चैलेंंज को लेकर।

याशी फिल्म्स के अभय सिन्हा प्रस्तुत एक्शन पैक्ड रोमांटिक फिल्म चैलेंज का निर्माण अंकुर प्रसाद, अंशुमान सिंह और समीर आफताब ने एक साथ किया हैं जबकि निर्देशक हैं निरहुआ हिन्दूस्तानी जैसी चर्चित फिल्म देने वाले निदेशक सतीश जैन। मधु शर्मा को भोजपुरी फिल्मों में  पिछले साल गुलामी फिल्म के लिये बेस्ट एक्टिंग के लिए दादा साहेब फाल्के फिल्म फाउंडेशन अवॉर्ड दिया गया। जाहिर है वे काफी खुश हैं।

प्रस्तुत है चैलेंज फिल्म को लेकर मधू शर्मा से शशिकान्त सिंह की खास बातचीत-

इस फिल्म चैलेंज में अपनी भूमिका के बारे में बताइये?

इस फिल्म में मैं एक नटखट लड़की की भूमिका में हूं जो मुंबई की है। उसे बिहार के लड़कों से नफरत थी। वजह क्या थी ये आपको फिल्म देखने के बाद पता चलेगा।

आपतो ताईक्वांडो में ब्लैकबैल्ट हैं किक बांक्सिंग भी जानती हैं। चैलेंज में भी एक्शन सीन होगा?

इस फिल्म मेंमैं एक पुलिस अधिकारी बनी हूं। जाहिर है इस कला का मैने खुब प्रयोग किया है। जमकर एक्शन किया है। साफ तौर पर कहूं तो चैलेंज मेरे लिये भी चैलेंज है।

फिल्म के निर्माता अभय सिन्हा जी के बारे में क्या कहेंगी?

अभय जी काफी सुलझे निर्माता हैं। उन्हे एक बेहतर फिल्म चाहिये। बजट को लेकर वे कभी भी समझौता नहीं करते। मैने उनके साथ कई फिल्में किया। वे प्राफिट का बाजार नहीं देखते।

आप साउथ की जानी मानी एक्ट्रेस हैं वहां ५३ फिल्में आपने किया। अब भोजपुरी का अनुभव?

भोजपुरी में मेरी पहली फिल्म थी एक दुजे के लिये। इस फिल्म की कामयाबी के बाद तो फिल्मों की लाईन लग गयी। काफी बेहतर इंडस्ट्रीज है ये और मुझे गर्व है कि मैं भोजपुरी फिल्म जगत का हिस्सा हूं।

फिल्म चैलेंज के निर्देशक सतीश जैन के बारे में क्या कहेंगी?

सतीश जी किसी भी कलाकार से हसंते हंसते काम निकालना जानते हैं। उनकी दो फिल्में निरहुआ हिन्दुस्तानी और निरहुआ रिक्शावाला २ की कामयाबी के बाद भी उनमें जरा सा भी घमंड नहीं है।

समीर आफताब जी के बारे में क्या कहेंगी?

समीर आफताब जी मल्टीटैलेंटेड हैं। उनके साथ काम करके काफी कुछ सीखा जासकता है।

आपके नायक इस फिल्म में पवन सिंह जी हैं? वे भोजपुरी के सुपरस्टार हैं क्या कहेंगी उनके बारे में?

पवन जी की बात आते ही मुझे हंसी आती है। वे सेट पर हमेशा हंसाते रहते हैं। फैन्स से हमेशा घिरे रहने वाले पवन जी कब किस मुद्दे पर किसको हसां देंगे ये कोई नहीं जानता।

कौन कौैन सी भाषायें सींख चुकी है?

 फिल्मों में काम करते-करते तेलुगु और भोजपुरी भी सीख गई हूं। मुझे बचपन में श्रीदेवी की फिल्में देखने का शौक था।
 
 चैलेंज को लेकर आप उत्साहित हैं?
मैं क्या पूरी टीम ही उत्साहित है। इस साल की सबसे चर्चित फिल्म है यह । हर कोई इस फिल्म का इंतजार कर रहा है। लाखों लोग इसका प्रोमो देख चुके हैं।



Browse By Tags



Other News