टाण्डा फारेस्ट रेंज में अवैध आरा मिलों का संचालन और हरे पेड़ों की कटान जोरों पर 
| - Rainbow News Network - Sep 6 2020 5:43PM

रेंजर टाण्डा इन्द्रभान सोनकर देते हैं विरोधाभाषी वक्तव्य 

अम्बेडकरनगर। जिले मे वन विभाग के कुछ जिम्मेदार अधिकारियों और मीडिया में आपसी तनातनी देखी जा रही है। मीडिया जो भी देखती है, उसका प्रकाशन व प्रसारण करने के पूर्व वन विभाग के जिम्मेदारों से उस बावत पूछती है। परन्तु जिम्मेदार अधिकारी कुछ भी स्पष्ट बताने के बजाय घुमा-फिरा कर गुमराह करने वाला वक्तव्य देते हैं, जिससे मीडिया और फारेस्ट डिपार्टमेन्ट में तनाजे की स्थिति पैदा हो रही है। विभागीय मुलाजिमों के द्वारा की जा रही असहयोग और मिथ्या कथन की यह स्थिति अत्यन्त दुःखद एवं शोचनीय बन गई है। 

बीते कुछ दिनों से वन विभाग के टाण्डा रेंजर के बारे में मीडिया में खबरें प्रमुखता से वायरल हो रही हैं, जिसमें कहा गया है कि टाण्डा वन क्षेत्र में ट्री गार्ड्स निर्माण में मानक की अनदेखी की जा रही है। इस बावत पत्रकारों ने जब रेंजर इन्द्रभान सोनकर से बात करके शिकायत किया तो उन्होंने अपने तीखे तेवर से एक तरह से खीझते हुए यह आरोप लगाया था कि पत्रकारों द्वारा उन पर फर्जी आरोप लगाया जा रहा है। टाण्डा रेंजर ने यह भी कहा था कि उनके वन क्षेत्र में कहीं भी अवैध आरा मिल का संचालन, वृक्षों की अवैध कटान नहीं हो रही है। रही बात ट्री गार्ड की तो जिस क्षेत्र का नाम पत्रकारों द्वारा खबर में लिया गया है वह वी.आई.पी. क्षेत्र (महुआरी गाँव) है इसमें प्रायः उच्चाधिकारियो एवं माननीयों का आवागमन होता रहता है। ट्री गार्ड निर्माण में किसी तरह की मानक की अनदेखी नहीं की जा रही है। इसे कोई भी आकर देख सकता है। 

उक्त कथन के विपरीत अब मीडिया में जो खबरें वायरल हो रही हैं उनको पढ़कर यह प्रतीत होता है कि फारेस्ट रेंजर टाण्डा इन्द्रभान सोनकर ने गलत बयानी की थी। वास्तविकता कुछ अलग ही है। इस समय वायरल हो रही खबर के मुताबिक इब्राहिमपुर थाना क्षेत्र के अलनपुर पेट्रोलपम्प के पीछे, अलनपुर गाँव में, धनुआपुर, ऐनवां के लक्ष्मणपुर गाँव में नाऊ का पूरा मजरे, महुआरी के रायपुर में, दशरथपुर में, मिर्जापुर के जयसिंहपुर गाँव में अवैध आरा मिलों का संचालन किया जा रहा है। इसके अलावा हरे वृक्षों पर आरा चलाये जाने की खबर प्रमुखता से वायरल हो रही है। 

मीडिया पत्रकार के अनुसार वन रेंज टाण्डा के रेंजर इन्द्रभान सोनकर की जानकारी में इस तरह के कार्यों को अंजाम दिया जा रहा है। अवैध आरा मिलों का संचालन और पेड़ों की धुआंधार कटान जारी है। हालांकि खबरों के अनुसार इन सभी आरोपों का खण्डन रेंजर इन्द्रभान सोनकर द्वारा किया गया है। उनके द्वारा यह भी कहा गया है कि क्षेत्र में न तो अवैध आरा मिलों का संचालन हो रहा है और न ही पेड़ों की अवैध कटाई। उनके द्वारा दिये गये बयान के अनुसार वन क्षेत्र के सभी अवैध आरा मिल संचालकों और ठेकेदारों को चेतावनी भी दी गई है। परन्तु वास्तविकता इसके विपरीत है। पेड़ों की कटान और अवैध आरामिलों पर इनकी चिराई निर्बाध जारी है। रेंजर द्वारा दिया गया बयान सर्वथा असत्य है। 



Browse By Tags



Other News