वाहन चोरी का आरोपी फर्जी आईपीएस साथी सहित गिरफ्तार
| Agency - Sep 11 2020 1:51PM

फरीदाबाद। दिल्ली-एनसीआर से वाहन चोरी कर मणिपुर में बेचने वाले गिरोह के दो बदमाशों को क्राइम ब्रांच सेक्टर-30 ने गिरफ्तार किया है। चोरी का वाहन मणिपुर ले जाने के दौरान पुलिस को चकमा देने के लिए एक आरोपी आईपीएस अधिकारी की वर्दी पहनकर कार में बैठता था, जबकि उसका साथी गनमैन व वाहन चालक बनकर गाड़ी चलाता था। आरोपी ने राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) का फर्जी पहचान पत्र भी बना रखा था और खुद को एसीपी बताता था।

पुलिस ने आरोपियों को अदालत में पेश किया। जहां से उन्हें 8 दिन के रिमांड पर भेज दिया है। क्राइम ब्रांच सेक्टर-30 प्रभारी निरीक्षक विमल कुमार ने बताया कि वाहन चोरी की बढ़ती वारदात पर लगाम लगाने के लिए उन्होंने अपनी टीमों को सक्रिय किया हुआ है। इस दौरान उन्हें पता चला कि मणिपुर का एक गिरोह यहां से कार चोरी कर उन्हें वहां ले जाता है।

बुधवार को एक सूचना के आधार पर क्राइम ब्रांच की टीम ने बदरपुर बॉर्डर से मणिपुर निवासी अबंग मेहताब व कबीर खान को गिरफ्तार किया। पूछताछ के दौरान मेहताब ने बताया कि वह और उसका साथी कबीर यहां से चोरी की गाड़ियों के नंबर बदलकर उन्हें मणिपुर ले जाते थे। रास्ते में कोई रोके नहीं, इसके लिए वह आईपीएस की वर्दी पहनकर कार में बैठता था, जबकि कबीर उसका चालक व सुरक्षाकर्मी बनता था। इस दौरान किसी को शक न हो कबीर अपने साथ अवैध हथियार भी रखता था।

जहाज से चोरी करने आते थे एनसीआर में

मेहताब ने एनआईए का फर्जी पहचान पत्र भी बनवा रखा था। इसमें उसने अपनी रैंक एसीपी दर्शाई हुई थी। दोनों मणिपुर से फ्लाइट से दिल्ली आते और यहां से चोरी की कार में सवार होकर सड़क के रास्ते मणिपुर जाते थे। चोरी की गाड़ी को वहां तक ले जाने में कोई दिक्कत न आए इसके लिए एनआईए का नकली आई कार्ड, रास्ते में होटल इत्यादि में ठहरने के लिए नकली आधार कार्ड और अपनी पर्सनल सुरक्षा के लिए अवैध हथियार रखते थे।

पुलिस ने दोनों आरोपियों के खिलाफ नकली दस्तावेज बनाने, धोखाधड़ी व अवैध हथियार रखने का मामला दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने दोनों को बृहस्पतिवार अदालत में पेश किया, जहां से उन्हें 8 दिन के लिए रिमांड पर भेज दिया गया है। पुलिस आरोपियों से पूछताछ कर रही है।



Browse By Tags



Other News