बलिया की जेठानी-देवरानी एक साथ बनीं पीसीएस अफसर
| Agency - Sep 17 2020 3:26PM

बलिया। सिकंदरपुर क्षेत्र के बनहरा निवासी डॉ ओम प्रकाश सिन्हा की दो बहुएं शालिनी श्रीवास्तव और नमिता शरण ने उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग 2018 की परीक्षा में सफलता हासिल की है। ये दोनों सगी जेठानी व देवरानी हैं। जेठानी शालिनी श्रीवास्तव पत्नी सौरभ सिन्हा का प्रधानाचार्य के पद पर चयन हुआ है, जबकि देवरानी नमिता शरण का पुलिस उपाधीक्षक के पद चयन हुआ है।

वर्तमान में शालिनी वाराणसी के रामनगर स्थित राधाकिशोरी राजकीय बालिका इंटर कॉलेज में सहायक अध्यापिका के पद पर तैनात हैं। इसके पहले वह बलिया के सहतवार क्षेत्र के प्राथमिक विद्यालय रजौली में अध्यापक के पद पर थीं। देवरानी-जेठानी के एक साथ चयन की चर्चा पूरे क्षेत्र में है।

नमिता शरण का इससे पहले बिहार में वर्ष 2016 में जिला प्रोबेशन अधिकारी के पद पर चयन हुआ था। उन्होंने छह माह हाजीपुर में ट्रेनिंग भी की और सीवान में नियुक्ती मिली। इसी बीच उप्र में वर्ष 2017 में जिला खाद्य विपणन अधिकरी के पद पर चयन हो गया। उन्होंने जिला प्रोबेशन अधिकारी के पद से इस्तीफा दे दिया, लेकिन अभी तक 2017 की परीक्षा का नियुक्ति पत्र नहीं आया है।

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग 2018 में पुलिस उपाधीक्षक के पद चयन हो गया। वह पुलिस उपाधीक्षक का पद ज्वाइन करेंगी और महिलाओं व समाज में फैली कुरीतियों को दूर करने की कोशिश करेंगी। इसके अलावा पुलिस व आमजन के बीच की दूरी को मित्रवत संबंध में बदलने का प्रयास भी करेंगी। दोनों ने सफलता का श्रेय माता-पिता के साथ ही सास-ससुर व पति को दिया।

नमिता शरण पत्नी शिशिर कुमार सिन्हा वर्तमान में पति के साथ गोरखपुर में रह रही हैं। नमिता ने उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग परीक्षा में 18वीं रैंक हासिल की है। उन्होंने यह सफलता तीसरी बार में अर्जित की है। शालिनी के अनुसार उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग की परीक्षा में दूसरी बार में सफलता हासिल की।

शिक्षा से एक दशक से जुड़ी हुई हूं। इसलिए मैं बच्चियों की शिक्षा पर रहेगा। सरकार ने लड़कियों के लिए तमाम योजनाएं चलाई हैं, जिसका लाभ मिल रहा है। नई शिक्षा नीति आने वाले दिनों में परिवर्तन लाएगी। शिक्षकों की मॉनिटरिंग व समय-समय पर ट्रेनिंग देनी होगी। शिक्षकों को अपने दायित्वों को समझना होगा।



Browse By Tags



Other News