सरकार ने किसान को बंधनों से मुक्त किया तो विपक्ष विरोध पर उतर आया: पी.एम. मोदी
| Agency - Sep 29 2020 1:29PM

संसद में हाल ही में पास किए गए किसान विधेयकों का मामला लगातार बढ़ रहा है। जहां देश के कई हिस्सों में किसान संगठन इन विधेयकों का विरोध कर रहे हैं, वहीं विपक्षी दल भी इस विरोध को जरूरी बता रहे हैं। इसपर अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रतिक्रिया आई है। उन्होंने कहा है कि अब जब सरकार किसानों को उनका अधिकार दे रही है तो ये लोग उसपर विरोध कर रहे हैं। ये लोग सिर्फ विरोध के लिए विरोध कर रहे हैं, जो देश देख रहा है।

प्रधानमंत्री ने कहा, अभी समाप्त हुए संसद सत्र में देश के किसानों, श्रमिकों और देश के स्वास्थ्य से जुड़े बड़े सुधार किए गए हैं। इन सुधारों से देश का श्रमिक सशक्त होगा, नौजवान सशक्त होगा, महिलाएं सशक्त होंगी, किसान सशक्त होगा। लेकिन आज देश देख रहा है कि कैसे कुछ लोग सिर्फ विरोध के लिए विरोध कर रहे हैं। अब से कुछ दिन पूर्व देश ने अपने किसानों को अनेक बंधनों से मुक्त किया है।

अब देश का किसान कहीं पर भी, किसी को भी अपनी उपज बेच सकता है। लेकिन आज जब केंद्र सरकार किसानों को उनके अधिकार दे रही है, तो भी ये लोग विरोध पर उतर आए हैं। उन्होंने कहा कि ये लोग चाहते हैं कि किसान की गाड़ियां जब्त होती रहे, उनसे बिचौलिए मुनाफा कमाते रहे। वर्षों तक ये लोग कहते रहे कि एमएसपी लागू करेंगे, लेकिन किया नहीं। एमएसपी लागू करने का काम स्वामीनाथन कमीशन की इच्छा के अनुसार हमारी ही सरकार ने किया है।

प्रधानमंत्री ने ये बात वीडियो कॉन्फ्रेंसिग के जरिए एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कही है। दरअसल आज उन्होंने उत्तराखंड में छह बड़ी परियोजनाओं का उद्घाटन किया है। इन परियोजनाओं का उद्घाटन वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से नमामि गंगे योजना के तहत किया गया है। इसके साथ ही प्रधानमंत्री ने जल जीवन मिशन के लोगो का भी अनावरण किया। इसी दौरान उन्होंने कृषि बिल के विरोध को लेकर अपनी बात रखी।



Browse By Tags



Other News