सिर्फ 1 सीट के लिए BJP से मिलीं माया, दलित अत्याचार पर साधी चुप्पी' : संजय सिंह
| Agency - Oct 31 2020 1:11PM

अलीगढ़/लखनऊ। यूपी में राज्यसभा चुनाव को लेकर दिलचस्प सियासी उठापटक के बाद राजनीति नई करवट ले रही है। बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने कहा है कि समाजवादी पार्टी को आने वाले एमएलसी चुनावों में हराने के लिए वह किसी से भी हाथ मिला सकती हैं। उधर इस घमासान में आम आदमी पार्टी भी कूद पड़ी है। पार्टी के राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने आरोप लगाया है कि एक राज्यसभा सीट के लिए मायावती ने दलितों के मुद्दे पर मुंह मोड़ लिया।

आम आदमी पार्टी सांसद और पार्टी के यूपी प्रभारी संजय सिंह ने गुरुवार को मायावती पर तीखा हमला बोला। उन्होंने कहा कि राज्यसभा की सिर्फ एक सीट के लिए मायावती ने बीजेपी से हाथ मिल लिया। इसीलिए उन्होंने बलरामपुर और हाथरस जैसी घटनाओं पर चुप्पी साध ली। संजय सिंह गुरुवार को अलीगढ़ में कार्यकर्ताओं के सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे।

संजय सिंह ने कहा कि बीजेपी का साथ देने की बात कहकर मायावती ने साबित कर दिया कि 2022 में उनके चुनाव चिह्न हाथी की सूंड में कमल का फूल होगा। वाल्मीकि समाज के लोगों के हिंदू धर्म छोड़कर बौद्ध धर्म के मुद्दे पर संजय ने फिर बीजेपी को घेरा। संजय ने आरोप लगाया कि बीजेपी का ऐसा उल्टा राज है, जिसमें गुंडों से डरने के बयाज लोग पुलिस वालों से डरने लगे हैं। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सभाजीत सिंह ने प्रदेश में बढ़ती महंगाई के खिलाफ 31 अक्टूबर को प्रदेश व्यापी आंदोलन का ऐलान किया।

इससे पहले राज्यसभा चुनाव के सियासी दांवपेच के बीच मायावती ने समाजवादी पार्टी को घेरा था। मायावती ने कहा कि मुलायम सिंह यादव के बाद अखिलेश की भी बुरी गति होगी। उन्होंने समाजवादी पार्टी को हराने के लिए किसी भी पार्टी का समर्थन करने की बात कही। राज्यसभा चुनाव के बीच मायावती ने एसपी के संपर्क में आए 7 विधायकों को निलंबित कर दिया है। मायावती ने कहा है कि अगर वे एसपी में शामिल होते हैं तो उनकी सदस्यता समाप्त करने की कार्रवाई की जाएगी।



Browse By Tags



Other News