निन्यानबे दशमलव नो फीसदी!
| -RN. Feature Desk - Nov 2 2020 1:14PM

-रामविलास जांगिड़

आजकल हर दिशा में निन्यानबे दशमलव नो फीसदी का जलवा जारी है। ग्राउंड जीरो से फसली रिपोर्ट की मारामारी है। सच्ची रिपोर्ट कहे यही तो असली महामारी है। अगर आप प्लाईवुड खरीदते हैं, तो उसमें हर प्रकार के वायरस को मारने की पूरी-पूरी गारंटी है। कोरोना वायरस का तो पक्का खात्मा तय! यह गारंटी निन्यानबे दशमलव नो फीसदी वायरसों को एकदम खलास कर देती है। आप अगर किसी दीवार पर कोई रंग लगा रहे हैं, तो भी यह गारंटी पक्की! अगर किसी कंपनी की सड़ी सी चप्पल पहन कर बाहर निकल रहे हैं, तो डरिए मत क्योंकि इस चप्पल में भी वायरसों को मारने की पूरी गारंटी है। इधर गारंटी, उधर गारंटी। बाएं गारंटी, दाएं गारंटी। गारंटी! गारंटीड! गारंटीशुदा! कोरोना मारने की हर तरफ गारंटियां बरस रही है।लोग ग्राउंड जीरो से गारंटियां उछाल रहे हैैं। संसद से उड़कर सड़क पर बरस रही है गारंटियां!

साबुन, सोडा और टीवी से लेकर वो, शौहर और बीवी तक। गारंटी पसरी पड़ी है! इतनी-इतनी गारंटियां है कि अब इन गारंटियों को देखकर कोरोना के छक्के छूट गए हैं। इधर एक चकाचक सीन दिखाई दे रहा है। कोई एक नेता हैंड पंप पर खड़े होकर अपनी चप्पलें धो रहा है। मुख्य चमचा हैंडपंप हिला रहा है। दलाल अंधों को आइना दिखा रहा है। अफसर गंजों को कंघा देने की योजना बता रहा है। मुर्दा अर्थी पर पसरे जिंदा लोगों को कंधा देने का गीत गा रहा है। नेता के चरणों में पड़ा हर एक वोटर गिड़गिड़ा रहा है।नेता चप्पल को हवा में उछाल कर कह रहा है- 'यही है हमारी फसली चप्पल! जिसको खाते ही आप कोरोना वायरस फ्री हो जाएंगे। असली नेता ब्रांड फसली चप्पल खाइए और निन्यानबे दशमलव नो फीसदी कोरोना भगाइए।'

लोग नेता की चप्पल खाने के लिए आपस में एक दूसरे को चप्पल खिला रहे हैं। ग्राउंड जीरो पर हवा में तरह-तरह की चप्पलें मचल रही है। इस जाति की चप्पल उस जाति की चप्पल! इस धर्म की चप्पल उस धर्म की चप्पल! इस क्षेत्र की चप्पल उस क्षेत्र की चप्पल! कोरोना को शर्तिया भगाने की नेतावादी चप्पलें लहरा रही है। सीन बिल्कुल घचाघच हुआ जा रहा है। हैंडपंप पर भीड़ बढ़ रही है। लोग चप्पल खाने के लिए ऐसे मचल रहे हैं जैसे कोई वैक्सीन हवा में लहरा रही हो। असली पार्टी की फसली चप्पलें लहरा रही है। हर जगह कोरोना वायरस का इतने अच्छे तरीके से इलाज किया जा रहा है कि इसकी वैक्सीन बेचारी आने में अब नखरे दिखा रही है। कोरोना वैक्सीन सोच रही है- अब मैं जाकर करूंगी क्या?

टीवी, अखबार और होर्डिंग पर विज्ञापन फड़फड़ा रहे हैं। पक्का है; अब कोरोना वैक्सीन को भी कोरोना से बचने के लिए विज्ञापन में बताई गई चप्पलों को यूज करना पड़ेगा। प्लाईवुड पेंट, बजरी सेंट! खरीदो नेता या सियासी एजेंट! कोरोना का इलाज पक्का है। निन्यानबे दशमलव नो फीसदी का जलवा हर दिशा में कायम है। तो चलूं! पीछे वाली गली में पत्थर सन्नाए जा रहे हैं। पत्थरों के पीछे-पीछे आवाजें सुनाई दे रही है- 'जो सिर हमारे पत्थर से फूटा, उसने कोरोना वायरस को कूटा! हमारे पत्थर से माथा फोड़िए, कोरोना फ्री होकर तुरंत दौड़िए! इस पत्थर में निन्यानबे दशमलव नो फीसदी कोरोना को भगाने की शर्तिया गारंटी!'



Browse By Tags



Other News