कोरोना बिजनेस चालू आहे!
| -RN. Feature Desk - Nov 23 2020 12:36PM

-रामविलास जांगिड़

कोरोना काल ने नए-नए धंधे पैदा किए हैं। सच में रोजगार के नए अवसर शुरू किए हैं। जनता से लेकर अफसर, दलाल और मंत्री तक कर रहे हैं कमाल! कोरोना केस चौक-चौराहे पर मचा रहे हैं धमाल! सीन 1: शादियों की अनुमति लेने के लिए जिला कलेक्ट्रेट पर भारी भीड़ उमड़ रही है। हर एक शादी की अनुमति लेने के लिए सौ-सौ आदमी खड़े हैं। सीन पर दलाल अड़े हैं। भीड़ दलाल से वार्ता कर रही है। अथ श्री भीड़ दलाल वार्ता:। आप शादी की अनुमति दिला रहे हैं। पहले बताओ शादी कब की है। इसी 25 की है।

शादी में कित्ते लोगों को बुलाओगे। भैया 200 लोगों की सेटिंग तो करा ही देना। जरूर हो जाएगी। 200 क्या 2000 की करा देंगे। भैया बहुत टाइम लग रहा है। कागज दे दो। फटाक से अनुमति ले लो। कतार में नहीं लगना पड़ेगा। हां पक्का! अंदर से दिलाऊंगा। क्या आप पैसे लेंगे! क्या हंसी जैसी बात करते हैं आप भी! सच पैसे नहीं, रुपए लूंगा! वह भी केस! हां शगुन के तौर पर सिर्फ 2001 केस चलेगा।

सीन 2: हॉस्पिटल के बाहर अलग-अलग खोमचे सजे हुए हैं। बाहर गंदे नाले पर पटरी पर लोगों ने दुकानें सजा रखी है। बदबू व मास्क में लिपटे कई चेहरे इन पटरियों पर तरह-तरह के बोर्ड लटकाए बैठे हैं। कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव से नेगेटिव, नेगेटिव से पॉजिटिव कराने के कुटीर उद्योग लग चुके हैं। निमोनिया से मरने वाले को कोरोना से मरने की रिपोर्ट बनवा लो। कोरोना से मरने वाले को सर्दी जुकाम दिखा दो। कोरोना बिजनेस चालू है! डायलॉग जारी है- भैया जरा जल्दी कर देना। अमेरिका जाना है। असल में कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट को नेगेटिव बनवानी है। बन जाएगी।

रिपोर्ट पॉजिटिव आई है इसको नेगेटिव बनाना है। कह दिया ना बन जाएगी! इत्ता टाइम नहीं है मेरे पास। कित्ते घंटे में बना दोगे। तुम्हें कित्ते घंटे में चाहिए। 5 मिनट के 15000! 10 मिनट के 10,000! 20 मिनट के 8000! 1 दिन के 2000! जल्दी बोल भाई! धंधे का टैम है। तुम्हें कित्ते टैम में रिपोर्ट चाहिए! जल्दी बोल! वह सामने कस्टमर खड़ा है। इसे रोज-रोज ऑफिस जाने में परेशानी हो रही है। यह भाई छींक मारकर कोरोना पॉजिटिव होने की रिपोर्ट बनाने आया है! ले भाई! यह ले तेरी रिपोर्ट! नेगेटिव से पॉजिटिव कर दी है। अब आराम से घर में पड़े-पड़े ऐश करना। जल्दी बोल! पीछे हट धंधे का टाइम है।

सीन 3: दरोगा दब्बू सिंह अपनी कैप ढूंढ़ रहा है। बीबी की शिकायतें चल रही है। देखो जी! तुम मुझे आज तक कहीं घुमाने नहीं ले गए। न कोई अच्छी सी साड़ी दिलाई। पूरे 3 महीने हो गए हैं, सोने का कड़ा चढ़ाए। देती हूं तुम्हें समझाए। आज शाम को आते वक्त कम से कम 15000 तो लाना ही। वरना देख लेना! दरोगा दब्बू सिंह कार की चाबी हाथ में लहरा रहा है। डायलॉग फरमा रहा है- चिंता मत करो डियर! आज मेरी कोरोना मास्क चेकिंग में ड्यूटी लगी है। हर एक मुखड़ा चेक करूंगा। शाम क्या दोपहर तक ही तुम्हारे चरणों में 30,000 धरूंगा। जरूरत पड़ी तो एक शादी में जाऊंगा। वहां सोशल डिस्टेंसिंग और सैनिटाइजर का जुर्माना लगाऊंगा। टेंशन ना ले! खूब रोकड़ा कमाऊंगा। कोरोना का नया बिजनेस मॉडल तेजी से चल रहा है। कोरोना का नया कारोबार तेजी से फल रहा है।



Browse By Tags



Other News