देश का सबसे प्रदूषित शहर बना जौनपुर, बनारस दूसरे पायदान पर
| Agency - Jan 7 2021 3:45PM

वायु प्रदूषण में सुधार के 24 घंटे बाद ही बनारस देश का सर्वाधिक दूसरा प्रदूषित शहर बन गया। वहीं जौनपुर देश भर का सबसे अधिक प्रदूषित शहर रहा। आईक्यूएयर की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार जौनपुर का एक्यूआई 416 और वाराणसी का 337 रहा। मंगलवार की रात 10 आईक्यूएयर ने देश के 10 सर्वाधिक प्रदूषित शहरों की सूची जारी की। इसमें जौनपुर, वाराणसी, मुजफ्फरपुर, पटना और केराकत पहले पांच की सूची में शामिल हैं।

24 घंटे पहले वाराणसी जहां सातवें नंबर पर था वहीं मंगलवार को यह दूसरे पायदान पर पहुंच गया। शहर की आबोहवा की सेहत की बात करें तो नाटी इमली में तो सबसे खराब स्थिति कई दिनों से बनी है। नाटी इमली का एयर क्वालिटी इंडेक्स मंगलवार को 541 और लंका का एयर क्वालिटी इंडेक्स 464 रहा। वहीं अर्दली बाजार का एयर क्वालिटी इंडेक्स तीन सौ पहुंच गया था। एक जनवरी से ही बनारस की वायु गुणवता लगातार बिगड़ती जा रही है।

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के आंकड़ों पर गौर करें तो अर्दली बाजार स्टेशन का एयर क्वालिटी इंडेक्स 332 था। पीएम 2.5 की अधिकतम मात्रा 400, न्यूनतम मात्रा 313, ओजोन की अधिकतम मात्रा 105 और नाइट्रोजन आक्साइड की अधिकतम मात्रा 132 रही। शहर भर में चल रहे खोदाई के काम में मानकों की अनदेखी हवा की सेहत का बिगाड़ रही है।

एयर क्वालिटी इंडेक्स

नाटी इमलीः 541 
लंकाः 464  
अर्दली बाजार: 300  
पांच प्रदूषित शहर 
जौनपुर
वाराणसी
मुजफ्फरपुर
पटना
केराकत 

24 घंटे पहले जौनपुर चौथे और वाराणसी सातवें स्थान पर था

इससे 24 घंटे पहले सोमवार के वायु प्रदूषण की बात करें तो  जौनपुर चौथे नंबर पर था। आईक्यू एयर की ओर से सोमवार की रात जारी रिपोर्ट में वायु गुणवत्ता सूचकांक के अनुसार वाराणसी सातवें नंबर पर था। जौनपुर का एक्यूआई 314 और वाराणसी का एक्यूआई 262 था। शहर में चल रही खोदाई और लगने वाले जाम ने बनारस की हवा को पिछले तीन महीनों से खराब कर रहा है। वायु प्रदूषण के मामले में एक जनवरी को बनारस चौथे नंबर पर, दो जनवरी को दूसरे और तीन जनवरी को चौथे नंबर पर था।



Browse By Tags



Other News